यूपी सहभागिता योजना 2020 उत्तर प्रदेश गौवंश पंजीकरण ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म

यूपी सहभागिता योजना 2020: दोस्तों आज हम आपको इस लेख के माध्यम से उत्तर प्रदेश सहभागिता योजना के बारे में विस्तारपूर्वक बताएंगे जैसा कि हम सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा गरीबों तथा बेसहारों के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं समय-समय पर आ रहे हैं इसी के साथ उन्होंने यह सहभागिता योजना शुरू की है इसके तहत निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए काफी अधिक सहायक है| इस योजना का प्रमुख उद्देश्य बेसहारा पशुओं की रक्षा करने के लिए शुरू किया गया है|

यूपी सहभागिता योजना 2020

सहभागिता योजना के अंतर्गत वह सभी आवारा पशु जो यहां वहां घूमते हैं शहरों में गावों में घूमते हैं| ना केवल बे अपने लिए हानिकारक वस्तुएं खा लेते हैं बल्कि इसके अतिरिक्त लोगों की फसलों का भी बहुत अधिक नुकसान करते हैं इन्हीं बेसहारा पशुओं को सहारा प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश सहभागिता स्कीम की शुरुआत की गई है| इस योजना के अंतर्गत वह लोग जो इन आवारा पशुओं को सहारा प्रदान करेंगे उन्हें सरकार की तरफ से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

यूपी सहभागिता योजना 2020

हाल ही में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना की शुरुआत की गई है| वे लोग जो आवारा पशुओं को पाने के लिए हामी भरते हैं उन किसानों को 30 रुपए प्रतिदिन देने के लिए सरकार की तरफ से मंजूरी दे दी गई है| इस प्रकार प्रतिदिन 30 रुपए के हिसाब से 1 महीने के 900 रुपए की आर्थिक सहायता आवारा पशुओं को पालने वाले किसानों को सरकार की तरफ से दी जाएगी|

यूपी सहभागिता योजना 2020
यूपी सहभागिता योजना 2020

यह आर्थिक सहायता प्राप्त होने से प्रत्येक किसान इस योजना में रुचि दिखा रहे हैं और वह भी इस सहभागिता योजना का हिस्सा बन समाज कल्याण का कार्य भी कर रहे हैं। इस योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में 1 लाख गोवंश पशु पालकों के सुपुर्द दिए जाने का प्रस्ताव है| यूपी सरकार के अनुसार इस पर 1 अरब 9 करोड 50 लाख तक का खर्च आएगा|

योजना से संबंधित संपूर्ण जानकारी

योजना का नामबेसहारा गोवंश सहभागिता योजना
शुरू की गईमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा
राज्यउत्तर प्रदेश
लाभार्थीप्रदेश की जनता
उद्देश्यआवारा पशुओं से लोगों की फसल को बचाना तथा पशुओं को एक बेहतर जीवन प्रदान करना
अंतिम तिथि 2020
यूपी सहभागिता योजना 2020

यूपी सहभागिता योजना 2020 एप्लीकेशन फॉर्म

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के अंतर्गत सामाजिक सहभागिता बढ़ेगी और आवारा पशुओं को भी रहने के लिए घर में रहेगा। वे सभी लोग जिनके पास आय का कोई स्रोत नहीं है इससे भी उनके आय के स्रोत बढ़ेंगे इससे जनसामान्य को रोजगार मिलेगा। जिन किसानों की फसलें आवारा पशुओं के कारण बर्बाद हो जाती थी उन्हें भी इससे छुटकारा मिलेगा और बड़े पैमाने पर जो नुकसान होता था वह भी अब नहीं होगा।

योजना के अंतर्गत बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के अंतर्गत किसान जो इन आवारा पशुओं का पोषण करते हैं| उन्हें प्रतिदिन के हिसाब से 30 रुपए दिए जाएंगे और यह महीने के 900 रुपए आर्थिक सहायता सरकार की तरफ से किसान को दी जाएगी| किसानों की आय में वृद्धि होगी| यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना पशुओं की एयरटेल भी की जाएगी इससे भी भ्रष्टाचार की समस्या कम होगी किसान या पशुपालक करने से वह सभी पशु जो आवारा घूमते हैं उन्हें घर मिलेगा और वह आसानी से अपना काम पूरा कर पाएंगे। पशु पालकों किसानों द्वारा आवारा पशुओं को आपसा देने से रास्ते में निराश्रित पशुओं द्वारा होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में भी कमी आएगी|

यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना ऑनलाइन आवेदन

  1. उत्तर प्रदेश निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के अंतर्गत यदि आप आवेदन करना चाहते हैं तो आपको नजदीक की तहसील ब्लाक व जिला स्तर के समिति से संपर्क करना होगा जो कि इस योजना के लिए गठित की गई है| Application Form
  2. आपको आगे की कार्यवाही समझा देंगे और इसे आप इस योजना का लाभ प्राप्त कर पाएंगे स्थानीय समिति प्रगति से वीडियो वह एसडीएम को अवगत कराएं और सारी जानकारी लोगों तक पहुंचाई जाएगी|
  3. आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको पशुपालन विभाग उत्तर प्रदेश के अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  4. इसमें आपको मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश से वा वित्त आयोग योजना लिखा हुआ होम पेज पर दिख जाएगा इस पर आपको क्लिक करना है।
  5. अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा इसमें इच्छुक किसान/ पशु पालक/ अन्य व्यक्तियों के चयन के लिए आवेदन पत्र मिल जाएंगे|
  6. अब आप इस आवेदन पत्र को प्रिंट करा कर दीजिए|
  7. आवेदन पत्र में किसान पशुपालक अन्य व्यक्तियों का फोटोग्राफ नाम पता आधार संख्या वोटर आईडी कार्ड बचत खाते का विवरण देना होगा|
  8. इसके साथ ही आपको आवेदन पत्र में परिवार का विवरण भी देना होगा|
  9. आप जितना भी गोवंश पालना चाहते हैं उनकी संख्या भी लिखनी होगी|
  10. इश्क सभी को पूरा करा कर ग्राम प्रधान से हस्ताक्षर कराकर डीएम बागपत पशु चिकित्सा अधिकारी के पास जमा कर सकते हैं|
  11. पशुपालन निदेशालय के अपर निदेशक डॉक्टर ए के सिंह द्वारा बताया गया है कि प्रदेश में जो भी आश्रय स्थल खोले गए हैं उनमें जिन प्रश्नों को सुरक्षित किया गया है उन्ही में से इच्छुक लोगों को दिया जाएगा। एक व्यक्ति कम से कम 4 पशुओं को रख सकता है इसके अलावा यह योजना के तहत जिन लोगों को चयन किया जाएगा उनकी स्थिति को देखा जाएगा कि भी पशु पालने के योग्य है भी या नहीं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि प्रदेश में 4063 गोवंश आश्रय स्थल बनाए गए हैं जिनमें 200000 से भी ज्यादा गोवंश को सुरक्षित किया गया है। इसमें 60% गाय हैं जबकि 40% बैल है| दिल्ली लेने के लिए इच्छुक होंगे तो वे उनको दिया जाएगा| गोवंश सेवा योजना के तहत पहले चरण में 100000 गायों को इच्छुक लोगों को दिया जाएगा|

Leave a Comment

Your email address will not be published.